यूपी इलेक्शन से पहले राम नाम पर बीजेपी की पॉलिटिक्स

October 22, 2016 Shivpal Gurjar Luhari No comments exist

1920036_772288029501305_6445151960549492263_n

SHIV PANDEY

यूपी चुनाव नजदीक आते ही सियासत गरमा गई है जहां एक ओर केंद्र सरकार अयोध्या में रामायण म्यूजियम बनाने की योजना बना रही है तो वहीं दूसरी ओर यूपी सरकार ने सरयू किनारे रामलीला पार्क बनाने का ऐलान कर दिया है। वैसे यदि इस समय बीजेपी के चुनाव प्रचार को देखा जाए तो इसमें भगवान राम का जिक्र हर जगह देखने को मिलेगा। इस पर विपक्ष की ओर से बयानबाजी करने का दौर भी शुरू हो गया है। विपक्ष का कहना है कि चुनाव आते ही बीजेपी को राम याद आने लगते है। बता दें कि लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी के घोषणापत्र में राम मंदिर का जिक्र था। हालांकि चुनाव बीतने के साथ ही राम मंदिर का मसला भी गुम हो गया।

ram mandir politics
Ram-Mandir-Politics

नया नहीं है राम मंदिर का मसला
पिछले कुछ चुनावों पर नजर डालें तो ये साफ़ हो जाता है कि राम मंदिर निर्माण का मसला यूपी चुनाव में पिछले कुछ सालों से लगातार चलता आ रहा है। साल 2009 के आम चुनाव में पीएम पद के उम्मीदवार रहे लालकृष्ण आडवाणी की ओर से बीजेपी ने राम मंदिर को मुद्दा बनाया गया था। हालांकि उस समय बीजेपी को महज़ 10 सीटें ही नसीब हो पाई थी। 2012 के विधानसभा चुनाव में अयोध्या सीट पर पहली बार समाजवादी पार्टी ने कब्जा किया जबकि इस सीट पर 1991 से बीजेपी का ही उम्मीदवार जीतता आ रहा था. यह इस बात का संकेत था कि अगर बीजेपी केवल राम मंदिर का मसला उठाए तो यूपी क्या, अयोध्या में भी नहीं जीत सकती।

मोदी के हर भाषण में राम नाम का जिक्र
बता दें कि आजकल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी लगभग हर रैली में भगवान राम का गुणगान कर रहे हैं। बात चाहे पाक को जवाब देने की हो या फिर देश में ही विपक्ष को जवाब देने की हो मोदी अपने भाषण में जयश्री राम का नारा ज़रूर देते दिखाई दे रहे हैं। मंगलवार को हिमाचल पहुंचे पीएम मोदी ने अपने भाषण में जयश्री राम का जिक्र किया था।

शिव पाण्डेय
प्रभारी
उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी
सोशल मीडिया

1920036_772288029501305_6445151960549492263_n

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *