कांग्रेस का वो कार्यकर्ता

October 12, 2016 Shivpal Gurjar Luhari No comments exist

1920036_772288029501305_6445151960549492263_n

SHIV PANDEY

कार्यकर्ता वह होता है जिसे अपने नेता से लगाव होता है। वो ऐसा ही कार्यकर्ता था,चुपचाप हमारी,उमाशंकर और नीरज की सख़्त समीक्षा सुनते जा रहा था।एक बार भी उत्तेजित नहीं हुआ।एक बार भी ग़ुस्सा नहीं हुआबल्कि तेज़ रफ़्तार से चलती गाड़ी में हम गिर न जायें,हमें संभाले रखा।जब हमारी बातचीत की रिकार्डिंग ख़त्म हो गई तब धीमी भावुकता से कहा कि आप एक नज़र से देख रहे हैं राहुल जी को। वह अपने नेता की ख़ूबियाँ बताने लगा कि कैसे तीस दिनों से लोगों के बीच हैं। सड़क पर हैं। हम बात कर रहे थे कि राहुल बहुत कम बोलते हैं।उन्हें बोलना चाहिए। बात करनी चाहिए। तब वह कार्यकर्ता कहने लगा कि राहुल जी कम बोलते हैं पर दिल के अच्छे हैं। उनके परिवार में दो दो की हत्या हुई है,वे एसपीजी सुरक्षा घेरे को तोड़ कर बहुत आगे नहीं जा सकते हैं।फिर भी वे लगातार मेहनत कर रहे हैं।कहते हैं मैं कम बोलता हूँ क्योंकि ज़्यादा बोलने के नाम पर झूठ नहीं बोलता।देर रात पता चला कि दिल्ली में कुछ ऐसा बोल दिया जिसे लेकर तूफान खड़ा हो गया है।

अपने नेता की निर्मम समीक्षा सुनने के बाद भी वह कार्यकर्ता क्रोधित नहीं हुआ।इंटरव्यू के बीच में राहुल राहुल नहीं चिल्लाया।ज़िंदाबाद के नारे नहीं लगाये।यही हम दूसरी पार्टी की गाड़ी पर सवार होकर उनके नेता की आलोचना कर रहे होते तो धक्कामुक्की हो गई होती।नारे लग गए होते।ट्वीटर पर दलाल बताकर ट्रेंड करा दिया गया होता।कैमरा तक छिन लिया गया होता।लेकिन राहुल गांधी की बस के आगे चल रहे इन दो कार्यकर्ता सह नेताओं ने ऐसा कुछ नहीं किया।बस धीमे से कहा कि हमारे नेता अच्छे हैं।आपकी बात पूरी तरह से सही नहीं है।हमने दोनों को बाइट के लिए आमंत्रित किया कि आप अपना पक्ष रख सकते हैं लेकिन कोई आगे नहीं आया।कहा कि प्रवक्ता बोलेंगे। दूसरे दल का कार्यकर्ता तो माइक छिन कर बोलने लगता। बाद में उनमें से एक ने बहुत मुश्किल से अपनी बात कही।हम तीनों ने उन कार्यकर्ताओं की शराफ़त और सहनशीलता को नोट किया और तारीफ़ भी की।

उस कार्यकर्ता को उम्मीद रही होगी कि उसके नेता की मेहनत की तारीफ होगी।वो हमसे नाराज़ नहीं हुआ बल्कि संभाल कर मिनी ट्रक से उतार दिया।तब तो नहीं कह पाया कि हमने किसी बुरी नीयत या नफरत से ऐसा नहीं किया।हम जो देख रहे थे वही बोल रहे थे।यह कहते हुए बोल रहे थे कि सराहनीय है कि कोई नेता तीस दिन तक सड़क पर रहता है लेकिन यही अंतिम बात नहीं हो सकती।हम यह भी कह रहे थे कि हम सिर्फ अंतिम दिन की यात्रा के आख़िरी घंटो के आधार पर कह रहे हैं।फिर भी उसे हाथ हिलाकर विदा करते वक्त उसके चेहरे की मायूसी खल गई।वो याद आ रहा है।

बस इतना कहना चाहता हूँ कि बुरे वक्त में हौसला रखना चाहिए।विपक्ष में होना बुरा वक्त नहीं होता।अपने नेता की कमियों को ख़ुद भी देखना और कहना।यही चीज़ तुम्हारे नेता को बेहतर करेगी।हम जो भी कहें,अंत में फ़ैसला जनता को करना है।उस अदालत में अगर आपके नेता की गवाही और जिरह सही होगी तो फ़ैसला आएगा वरना हम ख़ुश करने वाली लाख बातें कहें,कुछ होने वाला नहीं है।ऐसा ही एक कार्यकर्ता बिहार चुनाव के दौरान मिला था।बीजेपी का वो कार्यकर्ता याद है।बहुत देर से मिठाई लेकर खड़ा था।कहने लगा कि पता है मेरे साथी लोग आपको गाली देते हैं लेकिन कोई नहीं।आप हमारे नेताओं को टाइट किये रहना।ये लोग दिल्ली जाकर हमें भूल जाते हैं।हम आपकी हिम्मत की दाद देते हैं,इसलिए ये मिठाई खाइये।

यही सोच रहा हूँ कि हर दल में कुछ कार्यकर्ता होते होंगे जो अपने नेता के लिए सोचते होंगे। दिन रात घर परिवार से लड़ कर उस नेता के लिए मेहनत करते होंगे। क्या नेता लोग भी अपने कार्यकर्ताओं को इतना ही चाहते होंगे? लोकसभा चुनावों के दौरान पंजाब से कई दलों के पुराने कार्यकर्ताओं पर एक प्राइम टाइम किया था।राजनीति में कार्यकर्ता होना वाक़ई असाध्य कार्य है।मैं उसके कार्यकर्तापन का सम्मान करता हूँ।उसकी इस बात का प्रतिवाद नहीं किया कि मोदी जी की तारीफ में प्रेस बिछ जाता है लेकिन राहुल जी को देखते ही मज़ाक उड़ाने लगता है।हमने इस इरादे से तो कुछ नहीं किया और न ही अपनी बोली हुई बातों पर अफ़सोस है।जो बोला सोच समझ कर ही बोला और ठीक बोला।इसके बाद भी मैं उस कार्यकर्ता से यही कहना चाहता हूँ कि आपने जिस तरह से मेरी असहमति का सम्मान किया है मैं भी आपकी असहमति का सम्मान करता हूँ। घोर असहमति के क्षण में भी आपने हमारे कंधों को थामे रखा इसके लिए आभार व्यक्त करता हूँ। राजनीति में अब कार्यकर्ताओं की जगह समर्थकों की फौज आ गई है। सोशल मीडिया पर गुंडई का काम करती है। हार जीत होती रहती है,आप ऐसे ही कार्यकर्ता बने रहना। असहमतियों का सम्मान करने वाला एक अच्छा कार्यकर्ता।

 
 

शिव पाण्डेय
प्रभारी
उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी
सोशल मीडिया

1920036_772288029501305_6445151960549492263_n

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *